Breaking News :

JYOTISH: करें अगर यह उपाय तो बदल जाएगी जिंदगी की राह

हरिद्वार में बदमाशों ने हथियारों के साथ बोला हमला, चार हमलावरों को घेरा

फ्री गिफ्ट का झांसा देकर लाखों की ऑनलाइन ठगी में माहिर विदेशी गिरफ्तार

“राष्ट्रपति का पुलिस पदक” एवं सराहनीय सेवाओं के लिए “पुलिस पदक” से सम्मानित किये जाने की घोषणा

उपेक्षा का आरोप: फोरम ऑफ बैंक यूनियन के बैनर तले विशाल प्रदर्शन

पटवारी परीक्षा लीक प्रकरण: चतुर्वेदी का कस्टडी रिमांड रहा सफल, धीरे-धीरे खुल रही परतें

कहीं फर्जी तो नहीं आपका आधार कार्ड! एक और फर्जी आधार सेंटर का भंडाफोड़

कहता है राशिफल , आज बनेंगे इन राशियों के बिगड़े काम

परेड मैदान में उठाएं गणतंत्र दिवस का आनंद, रूट प्लान जारी

पुलिस ने सत्य साबित की चेतावनी! यू-ट्यूब ब्लॉगर के खिलाफ मुकदमा / हुई गिरफ्तारी

January 27, 2023

43 बार कोरोना पॉजिटिव, मांगी मौत की भीख

शोधकर्ता भी परेशान आखिर यह कैसे संभव?
10 महीने तक कोरोना लड़के रहे एक बुजुर्ग

LONDON: सोचिए आखिर कोई कितनी बार कोविड-19 पॉजिटिव हो सकता है और कितना उसका शरीर इस वायरस से लड़ सकता है बसीर मार्ग लेकिन इस दुनिया में अजीबो गरीब किस्से होते आए हैं और होते रहेंगे। दुनिया के कई देशों में दर्जनों ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें वैक्सीन लगाने के बाद भी लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इतना ही नहीं, कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें एक शख्स कई बार कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। ऐसे में वैज्ञानिकों व शोधकर्ताओं के पास एक गंभीर सवाल है कि आखिर एक व्यक्ति कितनी बार कोरोना पॉजिटिव हो सकता है।
इन सबके बीच एक ऐसा मामला सामने आया है, जो बहुत ही हैरान करने और चौंकाने वाला है। दरअसल, ब्रिटने में एक व्यक्ति एक, दो, तीन या पांच, बार नहीं बल्कि 43 बार कोरोना पॉजिटिव आया है। ये मामला सामने आने के बाद डॉक्टर भी हैरान हैं।
इंग्लैंड के ब्रिस्टल में रहने वाला एक बुजुर्ग 43 बार कोरोना पॉजिटिव पाया गया। बुजुर्ग व्यक्ति की पहचान डेव स्मिथ के रूप में हुई है, जिनकी उम्र 72 साल है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, डेव स्मिथ लगातार 10 महीने तक कोविड पॉजिटिव रहे हैं। ब्रिटेन में और संभवतः पूरी दुनिया में किसी भी व्यक्ति के इतने लंबे समय तक कोरोना पॉजिटिव रहने का ये पहला मामला है।
जानकारी के अनुसार, डेव स्मिथ रिटायर ड्राइविंग इंस्‍ट्रक्‍टर हैं। कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद वे सात बार अलग-अलग अस्पताल में भर्ती हो चुके हैं। बीबीसी को दिए साक्षात्कार में स्मिथ ने ये बताया है कि किस प्रकार से कोरोना वायरस उनके शरीर में इतने दिनों तक मौजूद रहा और इससे उनके शरीर पर क्या-क्या प्रभाव पड़े।
अपने साक्षात्कार में डेव स्मिथ ने बताया है कि उनके शरीर में एनर्जी बिल्कुल ही खत्म हो गई थी। स्मिथ ने कहा- एक रात मुझे लगातार पांच घंटे तक खांसी आई.. मैं जीने की उम्मीद छोड़ चुका था.. मैंने अपनी पत्नी व परिवार से कहा कि अब बस मैं जीना नहीं चाहता.. मुझे मरने दो.. मुझे अस्पताल ले चलो।
स्मिथ ने आगे बताया, ‘मैंने अपनी पत्नी लिन से कहा कि मुझे जाने दो.. मैं खुद में फंसा हुआ महसूस कर रहा हूं.. ये अब बद से बदतर हो चुका है.. मैं शांतिपूर्वक सभी को गुडबाय बोला..।’

हालांकि, डॉक्टरों ने उन्हें एक सप्ताह तक अस्पताल में रुकने और टेस्ट कराने की सलाह दी है। उनके परिवार ने डॉक्टर्स की सलाह के मुताबिक ही किया है और अब एक सप्ताह बाद अस्पताल से स्मिथ को छुट्टी मिल सकती है।
स्मिथ ने कहा की उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने की खुशी में उन्होंने शैम्पेन की बोतल खोलकर जश्न मनाया। हालांकि, वे ड्रिंक नहीं करते हैं लेकिन उस रात शैंम्पेन की बोतल खोल खुशी मनाई।

Vinkmag ad

Lalit Uniyal

Read Previous

अनचाहे मेहमान की धमक से भयभीत मोहल्ला

Read Next

पूर्ण अनलॉक की ओर उत्तराखंड, मिलेगी बड़ी राहत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *