Breaking News :

विजयदशमी आज: इन 6 राशियों पर आज खास रहेगी कृपा

दशहरा का आनंद उठाइए लेकिन जानिए क्या रहेगा यातायात प्लान?

उत्तराखंड में हादसों का दिन: पर्वतारोहियों के बाद बारातियों पर भी दुर्घटना का साया

हादसा: हिमस्खलन में दबकर 9 पर्वतारोहियों की मौत

संगीत प्रेमियों को महानवमी पर “केपीजी प्रोडक्शन” की अनुपम भेंट

आज महा नवमी की पूजा, जानिए अपनी राशि और ग्रहों की चाल

केदार सिंह प्रकरण: थाना लक्ष्मण झूला प्रभारी को हटाने के निर्देश

अफसरों की आराम तलबी पर भड़क उठे स्वास्थ्य मंत्री

अवैध शराब बनाने की बड़ी प्लानिंग विफल, 300 टिन अवैध लीसा बरामद

सावधान! उत्तराखंड में एक बार फिर भारी बारिश का अलर्ट

October 5, 2022

कल से बदल जाएगा उत्तराखंड में शिक्षा का पैटर्न

*मंगलवार को राज्य में लागू होगी नई शिक्षा नीतिः डॉ0 धन सिंह रावत*

*मुख्यमंत्री बालवाटिकाओं का उद्घाटन कर करेंगे एनईपी का शुभारम्भ*

*ब्लॉक स्तर पर विधायक व स्थानीय जनप्रतिनिधियों की मौजूदगी में होगा उद्घाटन*

*प्रथम चरण में पांच हजार आंगनबाड़ी केन्द्रों में शुरू होगी बालवाटिकाएं*

Dehradun: उत्तराखंड में आगामी 12 जुलाई को नई शिक्षा नीति लागू कर दी जायेगी। राज्य में सर्वप्रथम विद्यालयी शिक्षा के अंतर्गत प्राइमरी एजुकेशन में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को शुरू किया जायेगा। जिसकी तैयारी विद्यालयी शिक्षा विभाग ने पूरी कर दी है।

मंगलवार को शिक्षा महानिदेशालय में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी बालवाटिकाओं का उद्घाटन कर सूबे में नई शिक्षा नीति का विधिवत शुभारम्भ करेंगे। इसके साथ ही उत्तराखंड एनईपी लागू करने वाला देश का पहला राज्य बन जायेगा। राज्य के समस्त जनपदों में विकासखंड स्तर पर चिन्हित को-लोकेटेड आंगनबाड़ी केन्द्रों में वृहद रूप से बालवाटिकाओं का क्षेत्रीय विधायक एवं स्थानीय जनप्रतिनिधि उद्घाटन करेंगे, जिसमें शिक्षाविद्, अभिभावक एवं छात्र-छात्राएं शामिल होंगे। इसके साथ ही प्रथम चरण में शिक्षा विभाग के अंतर्गत प्राथमिक विद्यालयों में संचालित पांच हजार आंगनबाड़ी केन्द्रों में बालवाटिका कक्षाओं का संचालन शुरू हो जायेगा।

विद्यालयी शिक्षा मंत्री डॉ0 धन सिंह रावत ने बताया कि आगामी 12 जुलाई (कल) को सूबे में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को लागू कर दिया जायेगा। राज्य में नई शिक्षा नीति का शुभारम्भ शिक्षा महानिदेशालय, देहरादून में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा किया जायेगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री बालवाटिकाओं का विधिवत उद्घाटन करेंगे। इसके साथ ही उत्तराखंड एनईपी लागू करने वाला देश का पहला राज्य बन जायेगा। उन्होंने कहा कि विकासखंड स्तर पर क्षेत्रीय विधायक एवं स्थानीय जनप्रनिधियों की मौजूदगी में चिन्हित को-लोकेटेड आंगनबाड़ी केन्द्रों में बालवाटिकाओं का शुभारम्भ किया जायेगा।

डॉ0 रावत ने बताया कि राज्य में प्री-प्राइमरी स्तर पर बालवाटिकाओं में बच्चों को एनईपी के प्रावधानों के तहत पढ़ाया जायेगा। जिसके के लिये पाठ्यक्रम तैयार कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद द्वारा आंगनवाडी कार्यकर्त्रियों एवं शिक्षकों के लिये हस्तपुस्तिका, बच्चों के लिये तीन अभ्यास पुस्तिका स्वास्थ्य, संवाद एवं सृजन तैयार की गई है।

Vinkmag ad

Lalit Uniyal

Read Previous

इस बार हेल्थ मिनिस्टर का मास्टर स्ट्रोक, बातें नहीं सीधा एक्शन

Read Next

6 राशियों पर रहेगी आज पवन पुत्र की खास कृपा